Press "Enter" to skip to content

Why Desi Murga Is Testier than Broiler Hindi ? देसी मुर्गा या मुर्गी का स्वाद ब्रायलर से अच्छा क्यों होता है ? 

देसी मुर्गा या मुर्गी का स्वाद ब्रायलर से अच्छा क्यों होता है ?

इसके 2 मुख्या कारण  है ! पहला ब्रायलर ज्यादा ग्रोथ और तेजी से वजन पाने के मकसद से पाला जाता है ! और ब्रायलर को खुले में नहीं छोड़ा जाता ! ये ब्रीड जेनेटिकली इस तरह से तैयार की गयी है कि कम समय में ज्यादा वजन दे ! और ज्यादा तेजी से वजन पाने के लिये इन्हे जो फीड दिया जाता है उसमे अनेको विटामिन ,मिनरल्स एंटीबायोटिक्स ,एंटी कोक्सिडियल्स दिये जाते है ! इस वजह से ब्रायलर 30 से 45 दिन में तैयार हो जाता है !

तैयार ब्रायलर बाजार में बेचने से पहले अगर एंटीबायोटिक्स ,एंटी कोक्सिडियल्स कुछ दिन पहले बंद कर दिए जायें तो उनका असर ब्रायलर चिकन में नहीं जाता ! पर इस बात को कौन सा पोल्ट्री किसान या कौन सी कंपनी मानती है ! ये कोई नहीं जानता ! ब्रायलर को दिया जाने वाला फीड अनाज  ,Tallow,oil and meat and bone meal,dicalcium phasphate etc होते है !

अब जो ब्रायलर खायेगा उसका सीधा प्रभाव उसके स्वाद पर आना तय है !  अब आप क्या ब्रायलर से एक स्वाभाविक स्वाद की उम्मीद कर सकते है ? शायद कभी नहीं 

 

Desi murga vs Broiler Chicken
Desi murga vs Broiler Chicken

अब दूसरी तरफ देसी मुर्गी या मुर्गा ( Country Chicken (Desi Murga/Murgi ) घर पर साधारण पाले जाते है जिसमे असील ,कड़कनाथ या अन्य नस्ले है !इनका मुख्य भोजन कीड़े या केंचुए या अन्य ज्यादातर स्वाभाविक भोजन ही है ! इनको तभी खाने के लिए उपयोग में लाया जाता है ,जब यह अंडे देने लायक न रहें या सही वजन प्राप्त कर लें या जब उपयोग में लाने लायक हों !

और ये देसी मुर्गी या मुर्गा बिना किसी दवाई या  ज्यादा देख रेख  के खूब मेहनत कर के जीते है ! इससे इनके शरीर में स्वाभाविक हार्मोन बनते है ! और 6 महीने कम  से कम इनको तैयार होने में लगते है !   अब जो मुर्गी या मुर्गी ने खाया वही उसके स्वाद को निर्धारित करेगा ! और ये बिना एंटीबायोटिक्स ,एंटी कोक्सिडियल्स के तैयार होता है ! जैसे  Organic

दूसरा कारण – ब्रायलर 30 -45 दिन में तैयार हो जाता है ! इसका मांस नरम होता है जो पकाने में सिर्फ मिनटों का वक़्त लेता है ! और दूसरी तरफ देसी मुर्गा या मुर्गी पकने में बहुत ज्यादा वक़्त लेते है !

 

हम मांस को पकाने में ज्यादा वक़्त लेते है तो उसमें डालने वाले जो सामान होता है ! वो भी ज्यादा पकने में ज्यादा वक़्त मिलने से अपने स्वभाविक स्वाद छोड़ते है !  जिससे देसी मुर्गा या मुर्गी का मांस  और ज्यादा स्वादिष्ट हो जाता है ! .

थोड़े शब्दों में देसी मुर्गा या मुर्गी (Country Chicken ) बिना किसी दवाई या अन्य किसी जल्दबाजी में पालते है और पकने में ज्यादा समय लेते है ! जिस वजह से स्वाद जबरदस्त या यूं कहिये कम मसाले डाले जायें तो स्वाद मांस का ज्यादा आता है जबकि ब्रायलर में स्वाद ज्यादा मसालों का ही आता है ! अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर रखना ! 

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share Please
Daily Broiler & Egg Price.